नई दिल्ली: अयोध्या मे बनने वाली मस्जिद का खूबसूरत डिजाइन तैयार हो गया है। अयोध्याा मस्जिद का डिजाइन जारी किया गया है। आप डिज़ाइन देखकर यह अंदाजा लगा सकते हैं कि खूबसूरती के मामले में यह विश्व की चुनिंदा मस्जिदों में से एक होगी है। शनिवार लखनऊ में बैठक के बाद इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन आईआईएफएस (IIFS) ने अयोध्या मस्जिद का खूबसूरत डिजाइन को जारी किया। इस बैठक में ट्रस्ट के अध्यक्ष मौलाना जफर फारुकी अतहर हुसैन समेत कई अन्य लोग शामिल हुए, और जो लोग शामिल नहीं हो सके उन्हें वर्चुअल तरीके से जोड़ा गया। इस बैठक में मस्जिद के निर्माण, रिसर्च सेंटर, अस्पताल, कम्युनिटी किचन, और म्यूजियम के डिजाइन पर भी मुहर लगी।

26 जनवरी या 15 अगस्त को रखी जाएगी मस्जिद की नींव

अयोध्या मस्जिद का डिजाइन

बताया जा रहा है कि मस्जिद के निर्माण का कार्य गणतंत्र दिवस का स्वतंत्रता दिवस के मौके पर रखी जा सकती है। फिलहाल अभी इस पर कोई निर्णय नहीं लिया गया है। ट्रस्ट के सचिव अतहर हुसैन ने कहा कि मस्जिद के निर्माण का कार्य 26 जनवरी को होगा, अगर 26 जनवरी को नहीं हुआ तो फिर 15 अगस्त को होगा। क्योंकि 26 जनवरी को देश के संविधान के नींव रखी गई थी, और 15 अगस्त को देश आजाद हुआ और इस दिन आजाद भारत की नींव रखी गई। इसलिए इससे अच्छा दूसरा कोई दूसरा हो ही नहीं सकता।

अयोध्या मस्जिद के डिजाइन पर एसएम अख्तर ने बताया

अयोध्या मस्जिद का डिजाइन

प्रोफेसर एस एम अख्तर ने बताया कि मस्जिद में एक वक्त में 2 हजार लोग एक साथ नमाज अदा कर सकेंगे। यह बाबरी मस्जिद से भी बड़ी होगी। इस नई मस्जिद में कोई गोल गुंबद नहीं होगा। इसका लुक काफी मॉडर्न होगा जैसे अरब देशों की मस्जिदों का होता है। साथ ही तस्वीर में दिख रही चोकोर परिसर में म्यूजियम, लाइब्रेरी, अस्पताल और कम्युनिटी किचन बनाया जाएगा। इन सब का भी निर्माण मस्जिदों के साथ ही होगा। मस्जिद दो मंजिला बनाई जाएगी। उन्होंने यह भी बताया कि परिसर के मजार के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं किया जाएगा।https://www.fastkhabre.com/archives/2478

ये नई मस्जिद धार्मिक के साथ मानवता का प्रतीक होगा

जामिया मिलिया के आर्किटेक्चर डिपार्टमेंट के डीन प्रोफेसर एस एम अख्तर ने बताया कि ये मस्जिद धार्मिक के साथ-साथ मानवता का भी प्रतीक होगा। इसमें उन्होंने मस्जिद के डिजाइन के बारे में बताया कि इसका डिजाइन कांटेपोरेरी होगा। इसमें कुछ भी पुराना नहीं होगा। इसमें इस्तेमाल होने वाला सारा सामान नया होगा, जो इसकी खासियत होगी। इस खूबसूरत मस्जिद में सोलर पावर प्लांट भी लगाया जाएगा। इसमें दिन में दो बार जरूरतमंदों को भोजन कराने की भी व्यवस्था की जाएगी।

इसमें सबसे पहले मिट्टी की टेस्टिंग की जाएगी। उसके बाद मस्जिद का नक्शा पास कराया जाएगा, उसके बाद इसकी नींव डाली जाएगी। अख्तर ने बताया कि मस्जिद 3500 स्क्वायर मीटर में बनेगा। ये दो फ्लोर की होगी। महिलाओं के लिए अलग जगह होगी। इस मस्जिद को तैयार होने में 6 महीने का वक्त लगेगा। इस मस्जिद में 300 बिस्तरो वाला मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल भी होगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.