मधुमक्खी पालन 2021:आज हम कम लागत में व्यवसाय शुरू करने की इच्छा रखने वाले व्यक्ति को ऐसे व्यवसाय के बारे में बताएंगे जिससे कम लागत में महीने में लाखों की कमाई होगी। मधुमक्खी पालन ये स्वरोजगार बहुत ही फायदेमंद साबित हो सकता है।कृषि विभाग में सरकार की तरफ से कई प्रकार की योजनाएं चलाई जा रही हैं जिसको अपना कर किसान अपनी आमदनी को बढ़ा सकते हैं। इसी प्रकार कृषि विभाग मधुमक्खी पालन के लिए भी किसानों को प्रेरित कर रहा है। मधुमक्खी पालन बहुत ही फायदेमंद और मुनाफे वाला रोजगार साबित हुआ है।

मधुमक्खी पालन 2021

कृषि जगत के आंकड़ों पर अगर आप नजर डालेंगे तो लगभग 40 फ़ीसदी किसान अपने व्यवसाय से खुश नहीं है। इसका कारण रासायनिक खादों के बढ़ते मूल्यों, फसलों के समर्थन मूल्य का कम होना आदि ऐसे कई कारण है जिनके कारण उनका व्यवसाय काफी प्रभावित हो रहा है। ऐसी स्थिति में जरूरी हो जाता है कि एक ऐसा व्यवसाय किया जाए जिससे उन्हें खेती के साथ-साथ अलग से भी आमदनी हो।

आपको बता दें कि जिला राजौरी में कृषि विभाग द्वारा मधुमक्खी पालन के तीन केंद्र चलाए जा रहे हैं। इसमें दो केंद्र लंबेडी व एक केंद्र डंडेसर में में चलाया जा रहा है। इससे कृषि विभाग प्रतिवर्ष करीब 15 से 20 क्विंटल शहद का उत्पादन का राजस्व जुटा रहा है। इसके साथ ही मधुमक्खी पालन की एक पेटी की लागत करीब 2690 रुपए है, वही मधुमक्खियों की कीमत 2490 है। जिसकी कुल लागत पर विभाग द्वारा 40% की सब्सिडी भी दी जाती है। यदि कोई भी किसान इस मधुमक्खी पालन का कारोबार करना चाहे तो वह विभाग से संपर्क कर सकता है।

आगे पढ़ें: Amul फ्रेंचाइजी बिजनेस ऑफर्स: अमूल के साथ बिजनेस शुरू करने का शानदार मौका, महीने में होगी आठ लाख से ऊपर की कमाई

सरकार द्वारा दी जाती है मदद

मधुमक्खी पालन 2021

अगर आप हनी प्रोसेसिंग प्लांट लगाना चाहते हैं तो खादी ग्राम उद्योग(kvic) आपकी मदद करेगा। इसकी ओर से आपको 65 फ़ीसदी लोन मिल जाएगी और आपको 25 फ़ीसदी सब्सिडी भी मिलेगी। यानी आपको केवल प्रोजेक्ट का 10 फ़ीसदी पैसा लगाना होगा। kvic के अनुसार अगर आप 20 हजार किलोग्राम सालाना शहद उत्पादन करने का प्लांट लगाते हैं तो इस पर करीब 24.50 लाख रुपए का खर्च आएगा। आपको करीब 16 लाख रुपए का लोन मिलेगा जबकि मार्जिन मनी के रूप में 6.15 लाख रुपए मिलेंगे और आपको अपनी ओर से लगभग 2.35 लाख रुपए लगाने होंगे।

मधुमक्खी पालन 2021 के लिए योग्यता

  • मधुमक्खी पालन से संबंधित कई तरह की सर्टिफिकेट डिप्लोमा और डिग्री कोर्स किए जा सकते हैं।
  • डिप्लोमा करने वाले अभ्यार्थी के लिए साइंस स्ट्रीम से स्नातक होना जरूरी है।
  • जबकि हॉबी कोर्स के लिए किसी विशेष योग्यता की जरूरत नहीं होती है।
  • प्रशिक्षण के लिए एक हफ्ते से लेकर 9 महीने तक का कोर्स उपलब्ध है।
  • कम पढ़ा लिखा व्यक्ति जो इस व्यवसाय में दिलचस्पी रखता है वह भी प्रशिक्षण प्राप्त कर अपना व्यवसाय शुरू कर सकता है।
  • प्रशिक्षण शुल्क फीस 500 से लेकर 4000 रुपए तक है।

मधुमक्खी पालन 2021 के प्रकार

मधुमक्खी पालन 2021

  • इस व्यवसाय के लिए 4 तरह की मधुमक्खियां इस्तेमाल होती है।
  • एपीस मेलीफेरा, एपीस इंडिका, एपीस डोरसाला और एपीस फ्लोरिया।
  • इस व्यवसाय के लिए एपीस मेलीफेरा मधुमक्खियां ही अधिक शहद उत्पादन करने वाली और शांत स्वभाव की होती है।
  •  मधुमक्खी को डब्बे में आसानी से पाला जा सकता है।
  • इस प्रजाति की रानी मक्खी में अंडे देने की क्षमता भी काफी अधिक होती है।

मधुमक्खी पालन शुरू करने के लिए जरूरी सामान

मधुमक्खी पालन करने के लिए लकड़ी का बॉक्स, बॉक्स फ्रेम, मुंह पर ढकने के लिए जालीदार कवर, दस्ताने, शहद, रिमूविंग मशीन, शहद खत्म करने के लिए ड्रम, चाकू जैसे सामानों की जरूरत होगी।

आगे पढ़े: PM Kisan Samman Nidhi yojana: पीएम किसान सम्मान निधि योजना 2020 की 7वी लिस्ट आ गई, ऐसे करें चेक

इस तरह तैयार किया जाता है शहद

  • एक बक्से में 500 से 7 हजार मधुमक्खियां रहती है।
  • जिसमें एक रानी मधुमक्खी और कुछ ड्रोन नर मधुमक्खी वह वर्कर मधुमक्खियां रहती है।
  • फूल के समय आमतौर पर जनवरी फरवरी से मई तक खेतों व बगीचों में बक्से रखे जाते हैं।
  • 3 किमी की रेंज में मधुमक्खियां फूलों के रस लाकर बक्से के छत्ते में भरती हैं।
  • 1 दिन में रानी मधुमक्खी 1500 से 2000 अंडे देती है।
  • वर्कर मधुमक्खियां अपने पंख से लाए रस का पानी सूखाती है और मधु तैयार होता है।
  • लीची, केला, सरसों, तुलसी, धनिया, जामुन, सहजन, चिकना, खेसारी के अलावा 90 फ़ीसदी जिन पौधों में फूल होता है उनसे शहद प्राप्त किया जाता है।

आगे पढ़ें: पूर्व क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी करने जा रहे हैं बड़ा बिजनेस, जानिए क्या है इस बिजनेस में खास

इस बिजनेस से जुड़ी कमाई

 

अगर आप सालाना 20 हजार किलोग्राम शहद का उत्पादन करते हैं जिसकी कीमत 250 रुपए प्रति किलो है। इसमें 4 फ़ीसदी वर्किंग लॉस को शामिल किया जाए तो सालाना 48 लाख की बिक्री होगी। इसमें से सभी खर्च जो करीब 34.15 लाख रुपए को घटा दिया जाए तो आपको साल भर में करीब 13.85 लाख रुपए की कमाई होगी। यानी आप हर महीने 1 लाख रुपए से अधिक की कमाई कर सकते हैं।

इससे जुड़ी अहम जानकारी

  • जहां मधुमक्खियां पाली जाए उसके आसपास की जमीन साफ सुथरी होनी चाहिए।
  • बड़े चींटे, कीड़े मकोड़े, छिपकली, गिरगिट, भालू मधुमक्खियों के दुश्मन है।
  • इससे बचाव के पूरे इंतजाम होने चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.