नई दिल्ली:  संयुक्त राष्ट्र के विश्व खाद कार्यक्रम के प्रमुख डेविड बेस्ली ने दुनिया भर के नेताओं को आगामी खतरे को लेकर चेताया है। उन्होंने कहा है, कि 2020 की तुलना में 2021 में ज्यादा बुरा असर पड़ने वाला है। संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी विश्व खाघ कार्यक्रम प्रमुख का कहना है कि संगठन को इस बार मिले शांति पुरस्कार ने ऐसा स्पॉटलाइट दिया है, कि वह बैक्षित नेताओं को चेता सके कि 2021 बहुत खराब रहने वाला है। उन्होंने कहा कि अगर हमें अरबों डॉलर की सहायता नहीं मिली तो हम बेहद बुरी भुखमरी को झेलने को मजबूर होंगे।

डब्ल्यूएफपी के प्रमुख डेविड वीसली ने कहा

डेविड वीसली ने कहा की नाॅवे की नोबेल समिति उन कार्यों को देख रही थी, जो संघर्ष में आपदा में लाखों लोगों को भोजन मुहैया करवाने के लिए अपने कर्मचारियों की जिंदगी को खतरे में डालती है। उन्होंने कहा कि पुरस्कार हमें सही वक्त में मिला है। कोविड -19 की वजह से दुनिया भर का ध्यान उस परेशानी की ओर नहीं गया।जिसका हम सामना करते हैं।

उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण फिर से बढ़ रहा है। एक बार फिर से लाॅकडान वाली स्थिति बन रही है।जिससे निम्न और मध्यम आय वाले देशों की अर्थव्यवस्था बिगड़ती जा रही है। उन्होंने कहा 2020 में धन जितना उपलब्ध था। वो 2021 में नहीं होगा। इसलिए वो नेताओं से लगातार कांटैक्ट कर रहे हैं, और आने वाली खराब परिस्थितियों से आगाह कर रहे हैं। अगर इस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई तो कुछ ही महीनों में हालत बेहद खराब होगी।

बेसली का कहना है कि इस आकाल को रोकने के लिए 2021 में 50 अरब डॉलर की आवश्यकता होगी। साथ ही पूरे विश्व में 10 अरब डॉलर की आवश्यकता होगी। जिससे बच्चों के लिए वैश्विक कार्यक्रमों को ठीक तरीके से किया जा सके। अप्रैल में 13.5 करोड़ लोगों ने भुखमरी झेली थी। वही ये बताया जा रहा है,कि 2021 के शुरू होते ही 30 करोड़ लोग भुखमरी के शिकार होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *