Indian Railways New Rules 2022 : भारत में प्रतिदिन हजारों की संख्या में यात्री ट्रेनों से सफर करते हैं, और उन्हें बेहतर सुविधा देने के लिए रेलवे (Indian Railways) की ओर से कई कदम उठाए जाते हैं। ताकी यात्री बिना किसी परेशानी के यात्रा करते हुए अपने गंतव्य तक पहुंच सके। अक्सर देखा जाता है कि, लोगों की ट्रेन में सफर करने के दौरान एक शिकायत काफी ज्यादा रहती है, और वो है ट्रेन में सफाई की। ट्रेन हो या फिर रेलवे स्टेशन (Railway station) दोनों जगहों पर काफी ज्यादा गंदगी देखी जाती है, और उसका कारण वो कुछ लोग होते हैं, जो स्टेशन पर खाने-पीने के बाद रैपर या कोई भी कचरा वहीं फेंक देते हैं। Indian Railways New Rules 2022 in hindi लेकिन अब अगर किसी ने भी रेलवे स्टेशन परिसर में गंदगी फैलाई, तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई (Strict action) ।

रेलवे स्टेशन पर गंदगी फैलाने वालों के खिलाफ रेलवे के एनजीटी यानी नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (National Green Tribunal) ने सख्त कदम उठाया है। इसके तहत अगर कोई भी गंदगी फैलाते पकड़ा जाता है, तो उसके खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: गूगल आपकी कौन-कौन सी जानकारी को सेव कर रहा है | ऐसे मिनटों में करें पता

Indian Railways New Rules 2022 जाने नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल का क्या है आदेश

Indian Railways New Rules 2022दरअसल रेलवे की सफाई को लेकर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने एक आदेश दिया है। जिसके बाद इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन यानी आईआरसीटीसी ने इस मामले को लेकर सभी स्टेशन प्रभारियों को नोटिस जारी कर दिया गया है। इस नोटिस के अनुसार, यात्रियों को रेलवे स्टेशन पर सफाई व्यवस्था बनाए रखने में अपना योगदान देना चाहिए। इस दौरान सभी लोगों को अपने स्तर पर खाने-पीने के बाद कचरा कूड़ेदान में डालना होगा।

इसे भी पढ़ें: Laptop Battery Care Tips | लैपटॉप की बैटरी को लंबे समय तक चलाने का 7 आसान टिप्स

वहीं देखा जाता है कि, पटरियों पर भी काफी संख्या में कचरा पड़ा रहता है। ऐसे में यात्रियों को पटरियों पर गंदगी फैलाने से बचने को कहा गया है। दरअसल रेपर ट्रेन के पहियों के साथ चिपकने से दुर्घटना होने का खतरा भी रहता है, इसलिए जरूरी है स्टेशन पर गंदगी ना फैलाई जाए।

इन यात्रियों के खिलाफ ऐक्शन लेगी एनजीटी

NGT (National Green Tribunal ) की तरफ से दिये गए आदेश के अनुसार, अगर कोई यात्री कचरा फैलाता पाया गया उसके खिलाफ अब मुकदमा दर्ज किया जाएगा। जबकि पहले ऐसे लोगों के खिलाफ केवल जुर्माने का ही प्रावधान था। इसकी देखरेख के लिए अब फ्लाइंग स्क्वायड भी बनाया गया है। यानी इसके तहत अब अधिकारीयों की ये जिम्मेदारी होगी कि वो रेलवे में साफ-सफाई की व्यवस्था की देखरेख करें। इसके अलावा ऐसे यात्रियों के खिलाफ सख्ती से शिकंजा कसा जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *