Omicron kya hai in Hindi: पूरी दुनिया में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के मामले बढ़ते जा रहे हैं। इस वैरिएंट की पहचान सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका के वैज्ञानिकों ने की थी। WHO भी इसे ‘वैरिएंट ऑफ कंसर्न’ की सूची में डाल चुका है। इस नए वैरिएंट (Omicron variant) ने अब भारत में भी दस्तक (Omicron india cases) दे दी है। इसके कई मामले कर्नाटक में पाए गए हैं। केंद्र सरकार ने SARS-CoV-2 और Omicron वैरिएंट पर पूछे जा रहे ज्यादातर सवालों का जवाब देते हुए एक दस्तावेज जारी किया है। इसके जरिए लोगों को इस वैरिएंट को समझने में ज्यादा मदद मिलेगी।

ओमिक्रॉन क्या है? (Omicron kya hai in Hindi)

Omicron kya hai in Hindiओमिक्रॉन SARS-CoV-2 का नया वैरिएंट है जो हाल ही में दक्षिण अफ्रीका में पाया गया था। 24 नवंबर को इसे  B.1.1.529 या ओमिक्रॉन का नाम दिया गया। इस वैरिएंट में बहुत ज्यादा म्यूटेशन हैं, खासतौर से इसके वायरल स्पाइक प्रोटीन में 30 से अधिक म्यूटेशन पाए गए हैं। ये इम्यून रिस्पॉन्स को निशाना बनाते हैं। ओमिक्रॉन के म्यूटेशन की संख्या, इसके संक्रामक दर, इम्यून से बचन निकलने की क्षमता और दक्षिण अफ्रीका में कोरोना के मामले में तेजी से हुई वृद्धि को देखते हुए WHO ने इसे वेरिएंट ऑफ कंसर्न की सूची में डाला है।

इसे भी पढ़ें: Omicron in Mumbai latest update : देश में तेजी से बढ़ रहा ओमिक्रॉन का खतरा, महाराष्ट्र में मिला ओमिक्रॉन का चौथा संक्रमित

Omicron संक्रमित में पाए जाने वाले लक्षण

  • थकावट (Fatigue)यदि कोई व्यक्ति कोरोना के ओमीक्रोन वेरिएंट से संक्रमित है तो उसे लगातार थकावट महसूस हो सकती है।
  • बदन दर्द (Body aches & Pains)कोरोना के इस बेहद संक्रामक वेरिएंट से संक्रमित व्यक्ति को बदन दर्द और अन्य कई तरह के दर्द अनुभव हो सकते हैं।
  • तेज सिरदर्द (Severe Headache)Omicron वेरिएंट से संक्रमित मरीज को सिरदर्द की शिकायत हो है। यह सिरदर्द कई बार बहुत ज्यादा तेज भी हो सकता है।

ओमिक्रॉन संक्रमितों में नहीं मिले ये लक्षण (Omicron kya hai in Hindi)

  • स्वाद और गंध न आना (Loss of Smell/Taste)कोरोना के Delta वेरिएंट के लक्षणों में स्वाद और गंध (खुशबू-बदबू) न आना भी एक लक्षण था, लेकिन Omicron वेरिएंट से संक्रमित व्यक्तियों में अब तक यह लक्षण सामने नहीं आया है।
  • नाक बंद (Severely Blocked Nose)कोरोना के कई वेरिएंट में संक्रमित बंद नाक की शिकायत भी कर रहे थे, लेकिन Omicron वेरिएंट से संक्रमित मरीजों में यह लक्षण भी अब तक नजर नहीं आया है।
  • तेज बुखार (Severe Temperature)तेज बुखार या बहुत अधिक तापमान के कारण Delta वेरिएंट के संक्रमित घबरा जा रहे थे, लेकिन दक्षिण अफ्रीका में Omicron वेरिएंट से संक्रमितों में अब तक तेज बुखार का लक्षण भी नजर नहीं आया है।

ओमिक्रॉन से बचने के उपाय 

  • डब्ल्यूएचओ (WHO) की प्रमुख वैज्ञानिक डॉ. सौम्या स्वामीनाथन ने कोरोना के इस खतरे से बचे रहने के लिए लोगों को विशेष सावधानी बरतने की सलाह दी है।
  • एक चैनल को दिए गए इंटरव्यू में बताया कि फिलहाल मास्क ही कोरोना के इस खतरे से हमें सुरक्षित रख सकता है।
  • सभी लोगों को कोविड से बचाव के उपायों को लगातार प्रयोग में लाते रहना चाहिए।
  • इम्यूनिटी को मजबूत करने के लिए हर दिन 45 से 60 मिनट की फिजिकल ऐक्टिविटी जरूर करें।
  • शरीर में विटामिन्स की कमी न हो इसके लिए रोजाना 2 कटोरी हरी सब्जियां और 2 मौसमी ताजे फल जरूर खाएं।
  • रोजाना 35 से 40 मिनट धूप का सेवन करें।

इसे भी पढ़ें: Yono SBI App kya hai in Hindi | योनो एसबीआई बिजनेस मे अकाउंट कैसे बनाएं | सिर्फ 5 मिनट में करें योनो बिजनेस में रजिस्ट्रेशन

ओमिक्रॉन से बचने के घरेलू उपाय

  • शरीर को हमेशा तर रखें : शरीर में पानी की मात्रा भरपूर होनी चाहिए। ठंड के मौसम में प्यास थोड़ा कम लगता है। शरीर में पानी की कमी होने से कई तरह की परेशानी उत्पन्न हो जाती है।
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत रखें : शरीर का रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होने से कई गंभीर बीमारी से आप बच सकते हैं। ऐसे में आप पौष्टिक आहार का सेवन कर कोरोना जैसे बीमारी से बच सकते हैं। कोरोना की दूसरी लहर में बीमारी से बचने के लिए चिकित्सकों ने सबसे ज्यादा फोकस रोग प्रतिरोधक क्षमता पर किया था।
  •  तनाव से दूर रहें : तनाव शरीर को काफी नुकसान पहुंचाता है। तनाव सीधे तौर पर इम्यून फंक्शन से जुड़ा है। तनाव का स्तर बढ़ने से आपके शरीर का रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाता है। इस दौरान आपको कई तरह की बीमारी घेर लेता है। ऐसे में तनाव से बचें।
  •  नींद पूरी लें : भागदौड़ की जिंदगी में नींद पूरी नहीं होने से भी तनाव सहित कई तरह की बीमारी बढ़ रही है। नींद पूरी नहीं होने से भी शरीर का रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होता है। ऐसे में नींद पूरी लें। कम से कम आठ घंटे नींद लें। इससे कम नींद सेहत के लिए अच्छा नहीं माना जाता है।
  •  पौष्टिक आहार का सेवन करें : भागदौड़ की जिंदगी में अधिकांश लोगों की खान-पान बिगड़ गई है। समय पर न तो नाश्ता मिल पाता है और न ही खाना। ऐसे में आप पौष्टिक आहार का सेवन जरूर करें। खाने में फल, सब्जियां, नट्स, फलियां, बीज जैसे खाद्य-पदार्थ को शामिल करें। ये सभी आपके शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने में मदद करता है।
  •  शारीरिक श्रम जरूर करें : अपने आप को फिट रखने के लिए शरीरिक श्रम जरूर करें। इसमें योग या फिर व्यायाम कुछ भी शामिल हो सकता है। शारीरिक व्यायाम व योग के माध्यम से आपके तन और मन दोनों तरह से मजबूत रह पाएंगे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *