Pakistan Independence Day: आपको ये तो पता ही होगा कि भारत और पाकिस्तान को एक ही दिन यानी 15 अगस्त (15 August) को आजादी मिली थी लेकिन क्या आपको मालूम है कि हिंदुस्तान और पाकिस्तान में अलग-अलग दिन आजादी का जश्न मनाया जाता है। हां ये सच है, हिंदुस्तान में 15 अगस्त को आजादी (Independence Day) का जश्न मनाया जाता है और पाकिस्तान (Pakistan Independenca Day) में भारत से एक दिन पहले यानी 14 अगस्त (14 August) को आजादी का जश्नम मनाया जाता है।

Pakistan Independence Day Date

Pakistan Independenca Day

पाकिस्तान आज यानी 14 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। अंग्रेजों ने 1947 में जब भारत को आजाद करने का कानून बनाया था, उसमें भारत और पाकिस्तान दोनों देशों के बनने की तारीख 15 अगस्त लिखी गई थी। पाकिस्तान में आजादी के अगले 02 वर्षों तक ये असमंजसम बना रहा कि स्वतंत्रता दिवस 14 को मनाया जाए या फिर 15 को पाकिस्तान भारत से एक दिन पहले आजादी का जश्न मनाता है (Pakistan Independence Day Date)। इस कानून में लिखा था, ’15 अगस्त, 1947 से भारत में दो स्वतंत्र डोमिनियन स्थापित किए जाएंगे, जिन्हें क्रमशः भारत और पाकिस्तान के रूप में जाना जाएगा।’

मोहम्मद अली जिन्ना ने रेडियो संबोधन में कहा था

Pakistan Independenca Day

पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना (Muhammad Ali Jinnah) ने भी अपने रेडियो संबोधन में कहा था कि 15 अगस्त को पाकिस्तान का स्वतंत्रता दिवस मनाया जाएगा। उन्होंने स्वतंत्रता दिवस के भाषण में कहा था, ’15 अगस्त स्वतंत्र और संप्रभु पाकिस्तान के जन्म का दिन है। यह मुसलमानों की मंजिल की निशानी है, जिन्होंने पिछले कुछ वर्षों में अपनी मातृभूमि के लिए महान बलिदान दिए हैं।’ वहीं 14 अगस्त को यौम ए आजादी मनाने के पीछे की एक वजह ये भी मानी जाती है कि ये रमजान का 27वां दिन था।

इसे भी पढ़ें: Taleban ने Afghanistan के दूसरे सबसे बड़े शहर पर जमाया कब्जा, जानिए तालिबान ने कहां-कहां जमाया कब्जा

मतलब इस दिन शब-ए-कद्र पड़ रहा था, जिसे मुस्लिम धर्म में काफी पवित्र रात माना जाता है। इस वजह से भी पाकिस्तान 14 अगस्त को अपना स्वतंत्रता दिवस मनाता है। पाकिस्तान में जुलाई 1948 से जारी डाट टिकट पर भी 15 अगस्त को ही स्वतंत्रता दिवस की तारीख बताया जाता था (Pakistan Independence Day Facts)। लेकिन फिर इसी साल पाकिस्तान ने भारत से एक दिन पहले स्वतंत्रता दिवस मनाने का फैसला लिया।

जिन्ना के निधन के बाद बदली तारीख

जिन्ना के निधन के बाद पाकिस्तान के शासकों ने इसे आधिकारिक तौर पर 14 अगस्त कर दिया। लेकिन यह सवाल भी कई लोगों के मन में है कि 14 अगस्त की तारीख आखिर कहां से आई। इसकी एक वजह यह भी बताई जाती है कि इसके पीछे की वजह यह थी कि पाकिस्तान के लोग नहीं चाहते थे कि वे भारत के साथ अपना स्वतंत्रता दिवस मनाएं, लेकिन इस बात की कभी आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं हो सकी।

इसे भी पढ़ें: Khudiram Bose: 18 साल की उम्र में हाथ में गीता लेकर फांसी के फंदे पर चढ़ा ये क्रांतिकारी, जाने इनका पूरा इतिहास

इसके अलावा एक वजह और बताई जाती है। भारत ने ऐलान कर दिया था कि वह 15 अगस्‍त की मध्‍यरात्रि को स्‍वतंत्रता दिवस मनाएगा। ऐसे में वायसराय रहते हुए माउंटबेटन ने जिन्‍ना को कराची में 14 अगस्‍त को शपथ दिलवाई।

14 अगस्‍त को पाकिस्‍तान के स्‍वतंत्रता दिवस के पीछे यही सबसे बड़ी वजह बताई जाती है। कुछ इतिहासकार यह भी कहते हैं कि 14 अगस्‍त को ही कराची में पाकिस्‍तानी झंडा फहरा दिया गया था, इसलिए इसी दिन को स्‍वतंत्रता दिवस मान लिया गया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.