नई दिल्ली: हाल ही में ट्विटर की सबसे बड़ी हैकिंग हुई थी इस दौरान बिल गेट्स एलोन मस्क और जो वाइडेन जैसी मशहूर हस्तियों का ट्विटर अकाउंट हैक कर लिया गया। इसके बाद से ट्विटर सिक्योरिटी और प्राइवेसी को लेकर विवादों में आ गया है। सोशल मीडिया की दिग्गज कंपनी ने अपने ऊपर लगातार बढ़ते सुरक्षा की गंभीर खतरे को देखते हुए दुनिया के जाने माने हैकर को इस काम के लिए नियुक्त किया है। ताकि वे इन सब परेशानियों को निपटा सके। इन सब चुनौतियों के लिए ट्विटर सिक्योरिटी हेड के तौर पर पीटर जटको को नियुक्त किया है और ट्विटर के कार्यशैली में बदलाव की जिम्मेदारी दी है।ताकि ट्विटर पर बढ़ रहे हैकिंग को रोका जा सके।

जटको सीधा टि्वटर के सीईओ जैक डोर्सी को रिपोर्ट करेंगे। ऐसा अनुमान है कि वे 45 से 60 दिनों की समीक्षा के बाद प्रमुख सुरक्षा कार्यों का प्रबंध अपने हाथों में ले लेंगे। एक सूचना से पता चला है कि सूचना सुरक्षा साइड इंटीग्रिटी फिजिकल सिक्योरिटी प्लेटफॉर्म सिक्योरिटी की समीक्षा करेंगे जिससे आने वाले समय में बड़े बदलाव देखने को मिलेंगे। पीटर जटको बड़ी कंपनियों के साथ काम कर चुके हैं। उन्होंने गूगल के साथ भी साइबर सिक्योरिटी को लेकर काम किया है। जटको ने सरकार के लिए भी काम किया है। इसकी शुरुआत 1984 में हुई थी तब से काफी चर्चा में है।

टि्वटर ने लगातार कई सुरक्षा चुनौतियों का सामना किया है। पिछले साल अमेरिका सरकार ने सऊदी अरब के दो लोगों पर जासूसी करने का आरोप लगाया था। उनका कहना था कि दोनों ने किंगडम आलोचकों की प्राइवेट सूचनाओं को शेयर कर आगे भेजा था।

EFF ने ट्वीट कर कहा था

इएफएफ (EFF) ने ट्विटर से कहा था कि कंपनी को तत्काल मैसेजिंग में एंड टू एंड एनिक्रप्शन लाना चाहिए। लेकिन यह अब तक नहीं हुआ। अब ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि पीटर जटको इसे लेकर आ सकता है। जटको टि्वटर सिक्योरिटी को किस तरह मजबूत करता है और डेटा लीक होने से बचाता है। यह आगे देखना होगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *