नई दिल्ली: 12 फरवरी (भाषा) द एनर्जी एंड रिसोर्सेज इंस्टीट्यूट (टेरी) के वार्षिक कार्यक्रम, ‘‘21वां विश्व सतत विकास शिखर सम्मेलन (डब्ल्यूएसडीएस) 2022’’ का आयोजन 16 फरवरी से 18 फरवरी 2022 तक डिजिटल माध्यम से होगा। टेरी की महानिदेशक डॉ. विभा धवन ने कहा, “विश्व सतत विकास शिखर सम्मेलन किसी विकासशील देश द्वारा आयोजित अपनी तरह का इकलौता आयोजन है। इसमें दुनिया भर से राजनीतिज्ञों, विज्ञान विशेषज्ञों, शोधकर्ताओं और शिक्षाविदों को आमंत्रित किया जाता है।’’

विश्व सतत विकास शिखर सम्मेलन 2022 टेरी की ओर से जारी विज्ञप्ति के मुताबिक

विश्व सतत विकास शिखर सम्मेलन 2022टेरी की ओर से जारी विज्ञप्ति के मुताबिक 20 से अधिक वर्षों से आयोजित होता आ रहा यह कार्यक्रम विचार-विमर्श के जरिए सतत विकास और जलवायु कार्रवाई पर विभिन्न विचारों को सफलतापूर्वक सामने लाता रहा है ताकि राजनीतिक प्रतिष्ठानों और नागरिक समाज को कार्रवाई के लिए संवेदनशील बनाया जा सके।

इसे भी पढ़ें: Google Gmail Service New Update 2022 | Gmail को आज ही करे Update अब Mail के साथ मिलेंगे कई सारे ऑप्शन्स, जानिए गूगल के नए जीमेल सर्विस को इस्तेमाल करने का तरीका

डॉ. धवन ने कहा इस आयोजन का उद्देश्य धरती को लचीला बनाना और स्थायी तथा न्यायसंगत भविष्य सुनिश्चित करना है।

शिखर सम्मेलन में ‘ऐक्टफॉरअर्थ घोषणा-पत्र’ और ‘ऐक्टफॉरअर्थ रणनीति-पत्र’ भी जारी किया जाएगा।विज्ञप्ति के अनुसार इस सम्मेलन में संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के अध्यक्ष एवं मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद, अमेरिकी राष्ट्रपति के जलवायु के लिए विशेष दूत जॉन फोर्ब्स केरी और सीओपी26 के अध्यक्ष एवं ब्रिटेन सरकार में मंत्री आलोक शर्मा समेत कई देशों एवं संगठनों के प्रतिनिधि भी शामिल होंगे।

इसे भी पढ़ें: Laptop Battery Care Tips | लैपटॉप की बैटरी को लंबे समय तक चलाने का 7 आसान टिप्स

विश्व सतत् विकास शिखर सम्मेलन की शुरुआत कब हुई और इसका उद्देश्य क्या है

विश्व सतत् विकास शिखर सम्मेलन (world Sustainable Development Summit-WSDS) की विरासत को जारी रखने वाले इस सम्मेलन की  शुरुआत वर्ष 2001 में ‘सतत् विकास’ को विश्व स्तर पर साझा लक्ष्य बनाने के उद्देश्य से की गई थी। अनुसंधान, नीति, परामर्श और कार्यान्वयन क्षमताओं से युक्त एक स्वतंत्र, बहुआयामी संगठन TERI पिछले चार दशकों में  ऊर्जा, जलवायु परिवर्तन और स्थिरता के क्षेत्र में एक प्रमुख विचार मंच और अनुसंधान संस्थान के रूप में उभरकर सामने आया है। 1974 में स्थापित इस संस्थान को पूर्व में टाटा ऊर्जा अनुसंधान संस्थान के नाम से जाना जाता था

Leave a Reply

Your email address will not be published.