नई दिल्ली: विज्ञान की नजर से देखे तो आज का दिन बहुत खास है, क्योंकि आज भारत में कार्तिक पूर्णिमा मनाई जाएगी। 30 नवंबर 2020 को इस साल का आखिरी चंद्र ग्रहण लग रहा है। जो उपछाया चंद्र ग्रहण होगा। ऐसे तो यह मौका दुनिया भर के वैज्ञानिकों के लिए दुर्लभ संयोग है। क्योंकि आज चांद पूरा दिखाई देगा, और चंद्र ग्रहण भी लगेगा।

पिछले 3 दिनों से चांद पूरा ही दिखाई दे रहा है। धार्मिक और ज्योतिषी नजर से देखे तो चंद्र ग्रहण लगाना अशुभ माना जाता है। ज्योतिषी का मानना है कि उपछाया चंद्र ग्रहण लगने से इस बार सूतक काल का मान्य नहीं होगा। आज चंद्रग्रहण दुनिया के अलग-अलग समय पर तीन बार देखा जाएगा।

विज्ञान की नजर से खास तारीख

बताया जा रहा है कि अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने बताया कि 30 नवंबर को चांद पूरा दिखाई देगा। शनिवार से ही चांद पूरा दिखाई दे रहा है। आज चांद धरती के बाहरी परछाई से होकर गुजरेगा। जिसके वजह से पेनुम्व्रल चंद्र ग्रहण लगेगा। आपको बता दें कि धरती पर दो प्रकार की छाया होती है।

पहली उम्ब्रा और दूसरी पेनुम्व्रल जब चंद्रमा पर पृथ्वी की पूरी परछाई पड़ती है तो उसे उम्ब्रा परछाई कहते हैं। जिससे परछाई चंद्रमा पर पड़ने से चंद्रमा तक सूर्य की रोशनी सीधे तौर पर ना पहुंच कर पृथ्वी से होते हुए इसके सतह को छुती है। यानी पूर्ण चंद्रग्रहण पेनुम्व्रा छाया पृथ्वी को उस छाया को कहते हैं। जो पृथ्वी और चंद्रमा के कुछ हिस्से को छूती है। जिसे पेनु्म्व्रल चंद्रग्रहण कहते हैं।

आइए जानते हैं भारत में किस समय लगेगा चंद्र ग्रहण

भारतीय समयानुसार सोमवार 30 नवंबर को दोपहर 1:02 पर और फिर दोपहर 3.12 मिनट पर और शाम 5:23 मिनट पर चंद्र ग्रहण लगेगा। इसे हर आम आदमी को देख पाना मुश्किल है। नासा द्वारा जानकारी दी गई है कि उत्तरी अमेरिका में पेनुम्ब्रल चंद्रग्रहण दिखाई देगा। दुनिया भर में पूरा दिखने वाला चांद अलग-अलग देशों में अलग-अलग नामों से जाना जाता है। जैसे कि कहीं ओक मून, मून बिफोर रूले, विंटर मून और अन्य कई नामों से जाना जाता है।

ज्योतिष गणना के अनुसार

इस चंद्र ग्रहण का असर वृषभ राशि और रोहिणी नक्षत्र में लगेगा। जिसके कारण वृष राशि के लोगों पर ग्रहण का सीधा सर्वाधिक प्रभाव देखने को मिलेगा। इसलिए ग्रहण के समय वृक्ष राशि वालो को सावधानियां बरतनी होगी। ज्योतिषी अनुसार ग्रहण ज्यादा प्रभावशाली नहीं होगा। देश दुनिया पर इसका खास असर नहीं पड़ेगा। लेकिन चंद्र ग्रहण लगने से लोगों की मानसिक स्थिति पर इसका प्रभाव पड़ेगा। ज्योतिषी ने गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान घर पर ही रहने की सलाह दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *