मैसेजिंग ऐप WhatsApp को पिछले कुछ दिनों से अपनी नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर विरोध का सामना करना पड़ रहा है। इसी बीच भारत सरकार ने कंपनी को एक पत्र लिखकर इस नई पॉलिसी को वापस लेने की बात कही थी। वहीं अब भारत सरकार ने WhatsApp की तर्ज पर ही एक स्वदेशी इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप बनाया है। भारत द्वारा बनाए गए इस इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप का नाम संदेश(Sandes) रखा गया है। ये ऐप बनकर तैयार हो गया है। भारत सरकार व्हाट्सएप जैसे ऐप को बनाने की बात पिछले साल की थी जो अब बनकर तैयार हो गया है। इस ऐप का अभी टेस्टिंग चल रहा है। ऐसा बताया जा रहा है कि कुछ सरकारी कर्मचारी से आप का इस्तेमाल कर रहे हैं।

Sandes ऐप का लोगो

Sandes ऐप

सरकार की इस इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप की बात करें तो  http://GIMS.Gov.inपर Sandes ऐप का लोगो मौजूद है। जिसमें अशोक चक्र बना है। इस लोगों को तीन लेयर्स में बनाया गया है। जो मिलकर तिरंगा बनाते हैं। इसके बीच में अशोक चक्र है। इस ऐप के लोगों को दूसरी तरफ से देखने पर  व्हाट्सएप जैसा लगता है। इसका कलर डार्क ग्रीन है।

इसे भी पढ़ें: 1 अप्रैल से भारत में बंद होने जा रहा है ये Payment App, अगर आप भी इस ऐप का इस्तेमाल कर रहे है तो हो जाएं सावधान

Sandes ऐप के अभी लिमिटेड यूजर

एक रिपोर्ट के अनुसार इस ऐप को कुछ सरकारी अधिकारी इस गवर्नमेंट इंस्टेंट मैसेजिंग सिस्टम(GIMS) का इस्तेमाल कर रहे हैं। इस ऐप को अभी आम लोगों के लिए शुरू नहीं किया गया है। पिछले साल ये दावा किया गया था कि इस सरकारी चैटिंग ऐप को गवर्नमेंट इंस्टेंट मैसेजिंग सिस्टम(GIMS) कहा जाएगा, पर अब इसका नाम संदेश रखा गया है।

वेबसाइट पर संदेश से जुड़ी जानकारी

इस वेबसाइट पर संदेश ऐप के बारे में कुछ जानकारी दी गई है। यहां साइन- इन संदेश ओटीपी और संदेश वेव शामिल है। जैसे ही इन विकल्पों पर क्लिक करेंगे एक पेज पर मैसेज लिखा आता है। यह ऑथेंटिकेशन मैथर्ड सिर्फ ऑथराइज्ड सरकारी अधिकारियों के लिए लागू होती है। इस पर आप अपना अकाउंट नहीं बना सकते हैं। इसे लॉग-इन भी नहीं किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें: भारत में तेजी से पॉपुलर हो रहा ‘Clubhouse App’ , आइए जानते है इसकी खासियत और इसे यूज करने का तरीका

संदेश को एंड्रॉयड और आईफोन दोनों ही प्लेटफार्म के लिए लाया जाएगा। ये दूसरे चैटिंग ऐप की तरह वाॅयस और डेटा सपोर्ट करता है। इस ऐप को नेशनल इनफॉर्मेटिक्स सेंटर मैनेज करेगा। यह इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इनफॉरमेशन टेक्नोलॉजी मंत्रालय के अंदर आता है। सरकार ने फिलहाल इसे अपने अधिकारियों के लिए ही सीमित रखा है। बहुत जल्द इसे आम लोगों के लिए जारी कर दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.