केंद्र सरकार देश में तेल के दामों को काबू में रखने व उनमें कमी लाने के इरादे से अपने सामरिक भंडार से 50 लाख बैरल कच्चा तेल (crude oil) जारी करेगी। अंतरराष्टीय बाजार में कच्चे तेल के दामों में गिरावट लाने के लिए अमेरिका, चीन व जापान समेत कई बड़ी अर्थव्यवस्था वाले देश इसी तरह का कदम उठा रहे हैं। यह पहला मौका है जब भारत अपने सुरक्षित व सामरिक तेल भंडार से कच्चा तेल बाजार में जारी करेगा। चूंकि तेल उत्पादक देशों का संगठन ‘ओपेक’ उत्पादन बढ़ाकर दामों में कमी लाने को तैयार नहीं हो रहा है, इसलिए भारत समेत विश्व की बड़ी अर्थव्यवस्था वाले देशों ने यह तरीका निकाला है।

भारत के पूर्वी व पश्चिमी तट पर कच्चे तेल के भूमिगत भंडार हैं। इनमें 53.30 लाख टन या करीब 380 लाख बैरल कच्चा तेल आपात व सामरिक दृष्टि से सुरक्षित रखा गया है। सरकार ने मंगलवार को बताया कि इसमें से करीब 50 लाख बैरल कच्चा तेल बाजार में बेचने के लिए रिफाइनरियों को जारी किया जाएगा।

 इसे भी पढ़ें: जल्द बढ़ सकती है Retirement की उम्र और Pension की राशि | सीनियर सिटीजन की सुरक्षा के लिए बेहतर व्यवस्था, जानिए क्या है सरकार की ये नई योजना

अंतरराष्टीय बाजार में कच्चे तेल के दामों में गिरावट, अमेरिका 500 लाख बैरल कच्चा तेल जारी करेगा

इसी तरह अमेरिका भी अपने सामरिक पेट्रोलियम भंडार से 500 लाख बैरल कच्चा तेल जारी करेगा। यह उसकी रोजाना की तेल खपत के बराबर होगा। अमेरिका में रोज 480 लाख बैरल तेल की खपत होती है।

तेल उत्पादक देश कृत्रिम रूप से बढ़ा रहे कीमतें  केंद्र सरकार ने बयान जारी कर कहा

अंतरराष्टीय बाजार में कच्चे तेल के दामों में गिरावटकेंद्र सरकार द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि भारत की दृढ़ मान्यता है कि तरल हाईड्रोकार्बन्स की कीमतें उचित, जिम्मेदाराना और बाजार ताकतों द्वारा तय किया जाना चाहिए। भारत हमेशा से चिंता जताता रहा है कि तेल उत्पादक देशों द्वारा कीमतों को कृत्रिम रूप से तय किया जा रहा है। इसका मांग से कोई संबंध नहीं है। इस कारण तेल की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। इसका दूसरे देशों पर गंभीर असर हो रहा है।

इसे भी पढ़ें: पीएम आवास योजना को लेकर सरकार ने बनाए नए नियम | अगर आपको भी प्रधानमंत्री आवास आवंटित हुआ है तो जल्द जान ले नए नियम

केंद्र सरकार ने फिलहाल यह नहीं बताया कि रिजर्व भंडार में से 50 लाख बैरल कच्चा तेल कब जारी किया जाएगा, लेकिन इस घटनाक्रम से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि अगले सात से 10 दिनों में यह जारी कर दिया जाएगा। यह तेल मेंगलोर रिफाइनरी (MRPL), हिंदुस्तान पेट्रोलियम कार्पोरेशन (HPCL) को जारी किया जाएगा। ये दोनों रिफाइनरियां सामरिक भंडार की पाइप लाइन से जुड़ी हुई हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *