कोलेस्ट्रोल कम करने का रामबाण इलाज : कोलेस्ट्रॉल एक तरीके का फैट है जो ज्यादा बढ़ जाने पर तरह तरह की परेशानियां पैदा करने लगता है। कोलेस्ट्रॉल बढ़ने      ( Cholesterol high level ) पर हार्ट अटैक, स्ट्रोक, टाइप 2 डायबिटीज और अन्य बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल लेवल जान को जोखिम में डाल सकता है क्योंकि कोलेस्ट्रॉल ( Cholesterol ) बढ़ जाने से सीधा-सीधा असर हार्ट पर पड़ता है, जिससे इंसान की मौत तक हो सकती है। ऐसे में कोलेस्ट्रॉल को सही रखना या ज्यादा न बढ़ने देने की कोशिश करते रहना चाहिए ताकि आपके शरीर को किसी तरह की कोई परेशानी न हो पाए।

ऐसे में यह जानना बहुत ही ज्यादा जरुरी होता है कि आखिर ( cholesterol causes ) क्या कारण है कि कोलेस्ट्रॉल एकदम से बढ़ जाता है, किस तरह से पता चलता है कि         ( cholesterol test )कोलेस्ट्रॉल बढ़ चुका है क्योंकि कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के लक्षण काफी सामान्य होते हैं और सबसे अहम बात यह होती है कि बढ़ें हुए कोलेस्ट्रॉल को किस तरह से कम किया जा सकता है। आज हम सब इस आर्टिकल के माध्यम से केलोस्ट्रोल से जुड़ी पूरी जानकारी के बारे में जानेंगे कि कोलेस्ट्रोल कैसे बढ़ता है | कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए क्या खाना चाहिए| बड़े हुए कोलेस्ट्रॉल को कैसे कम करें | कोलेस्ट्रॉल कम करने के आयुर्वेदिक उपाय | कोलेस्ट्रोल कम करने का रामबाण इलाज क्या है  इत्यादि

कोलेस्ट्रॉल क्या है ( Cholesterol kya hai in Hindi )

कोलेस्ट्रोल कम करने का रामबाण इलाज

कोलेस्ट्रॉल एक मोम जैसा पदार्थ होता है जो लिवर में बनता है। ये 2 प्रकार का होता है। अच्छा कोलेस्ट्रॉल यानी हाई डेंसिटी लिपोप्रोटीन (एचडीएल) और लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन यानी बुरा कोलेस्ट्रॉल (एलडीएल)। एलडीएल कोलेस्ट्रॉल शरीर के लिए खतरनाक होता है। इसके बढ़ने से शरीर में काफी सारी समस्याएं होने लगती हैं। डॉक्टर द्वारा हाई कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ने पर स्थिति देखकर इलाज किया जाता है.

कोलेस्ट्रॉल के लक्षण – cholesterol increase symptoms

  • बांहों और जबड़ों में दर्द होना
  • जरुरत से ज्यादा पसीना आना
  • नाखूनों का पीला होना
  • सांस फूलना
  • हाई ब्लड प्रेशर
  • पैरों में अकसर दर्द रहना या सूजन आना
  • सीने में दर्द
  • जी मिचलाना
  • पैरों का सुन्न हो जाना

कोलेस्ट्रॉल पर नियंत्रण कैसे करें – cholesterol how to reduce

खान पान सही रखें

कोलेस्ट्रॉल ( cholesterol levels ) को सही रखने के लिए हेल्दी खान पान बहुत ज्यादा जरुरी है। ऐसे में ज्यादा पैकेज्ड स्नैक्स, डेयरी प्रोडक्ट्स, मांस आदि से दूर रहना चाहिए। इन सारी चीजों के सेवन से कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है इसलिए इन चीजों का सेवन कम करें।

व्यायाम करें

जब कोलेस्ट्रॉल कम हो जाता है तो ऐसे में व्यायाम करें क्योंकि व्यायाम आपके शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में मदद करता है। जब भी कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाएं तो व्यायाम जरूर करें।

शराब न पिएं

अधिक शराब पीने से कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है जो शरीर के लिए हानिकारक होता है। ऐसे में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर शराब न के बराबर पिएं हो सके तो बिलकुल भी न पिएं।

मोटापे से बचें 

मोटापा के कारण अक्सर कोलेस्ट्रॉल बढ़ने का खतरा रहता है। ऐसे में 30 या उससे ज्यादा बॉडी मास इंडेक्स होने से परेशानी हो सकती है। कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल रखने के लिए मोटापा कम रखें और फिट रहें।

धूम्रपान करने से बचें 

सिगरेट पीने से गुड कोलेस्ट्रॉल कम हो जाता है और बेड कोलेस्ट्रॉल बढ़ने लग जाता है, जिससे हार्ट अटैक की संभावना बढ़ जाती है। अगर कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल रखना है तो सिगरेट पीना एकदम छोड़ दें ताकि आपका शरीर तंदुरुस्त रह पाएं।

कोलेस्ट्रॉल को कम करने के घरेलु उपाय – cholesterol reducing foods

आइए जानते हैं कि कोलेस्ट्रोल कम करने का रामबाण इलाज क्या है कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए क्या खाना चाहिए ( cholesterol lowering foods )

लहसुन खाएं

  • लहसुन को सुबह सुबह या रात में सोने से पहले कच्चा खाएं।
  • लहसुन में एलिसन नामक तत्त्व पाए जाते हैं जो कोलेस्ट्रॉल को कम करने में बेहद असरदार साबित होते है इसलिए लहसुन का सेवन जरूर करें।

ग्रीन टी पिएं

  •  ग्रीन टी में ऐसे कई तत्त्व होते है जो सेहत के लिए काफी अच्छे होते हैं।
  • ग्रीन टी का सेवन करने से वजन कम करने में मदद मिलती है।
  • हेल्दी खान पान के लिए, मेटाबोलिज्म ठीक करने के लिए और कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए लोग ग्रीन टी पीते है।
  • आपको बता दें ग्रीन टी में ऐसे तत्त्व होते हैं जो बेड कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करते हैं।

हल्दी वाला दूध पिएं

  •  हल्दी तो वैसे सभी के लिए काफी फायदेमंद होती है लेकिन उनके लिए ज्यादा होती है जिनका कोलेस्ट्रॉल लेवल हाई होता है।
  • ऐसा इसलिए क्योंकि हल्दी में कुछ तत्त्व मौजूद होते है जो बेड कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करते हैं और सेहत को तंदुरुस्त रखते है।
  • हल्दी वाला दूध निश्चिंत रूप से पिएं।

अलसी के बीज खाएं

  • अलसी के बीज में सबसे ज्यादा पॉवरफुल तत्त्व पाएं जाते हैं जैसे ओमेगा 3 फैटी एसिड और लिनोलेनिक एसिड जो सीधा-सीधा बैड कोलेस्ट्रॉल पर वार करता है और काफी असरदार भी होता है।
  • इसलिए कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए अलसी के बीज का सेवन अवश्य करें।

अखरोट का सेवन करें 

  • अखरोट एनर्जी का भंडार है।
  • रोजाना चार अखरोट खाने से हमारे शरीर को तुरन्त एनर्जी मिलती है साथ ही इसमें कैल्शियम, मैग्नीशियम, ओमेगा-3, फाइबर, कॉपर और फॉस्फोरस जैसे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं।
  • रोजाना सुबह चार अखरोट खाने से रक्तवाहनियों में जमा कोलेस्ट्रॉल पिघलने लगता है और यह आपके बैड कोलेस्ट्रॉल को वापस यकृत तक भेजने में बहुत मददगार होता है।
  • इसलिए रोजाना चार अखरोट खाने कोलेस्ट्रोल कम करने का रामबाण इलाज है इसलिए इसकी आदत डालिये।

ओट्स का सेवन करें 

  • ओट्स में मौजूद बीटा ग्लूकॉन नामक गाढा चिपचिपा तत्व हमारी आंतों की सफाई करते हुए कब्ज की समस्या दूर करता है।
  • इसकी वजह से शरीर में बुरे कोलेस्ट्रॉल का अवशोषण नहीं हो पाता। वैज्ञानिकों द्वारा किए गए अध्ययनों से यह साबित हो चुका है कि अगर तीन महीने तक नियमित रूप से ओट्स का सेवन किया जाए तो इससे कोलेस्ट्रॉल के स्तर में 5 प्रतिशत तक कमी लाई जा सकती है। में कोलेस्ट्रोल कम करने का रामबाण इलाज है।

इसे भी पढ़ें: हो जाएं सावधान रात को सोते वक्त की गई एक गलती बढ़ा सकती है ब्लड प्रेशर डायबिटी व मोटापा

कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर क्या ना खाएं- cholesterol how to reduce

कोलेस्ट्रोल कम करने का रामबाण इलाज मीट से करें परहेज

अगर आपका कोलेस्ट्रॉल बढ़ा हुआ है तो आप भूलकर भी मीट का सेवन न करें मीट में पाए जाने वाले तत्व कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने का काम कर सकते हैं।

डेयरी प्रोड्क्ट

ज्यादा फैट वाले दूध, पनीर जैसी चीजों का सेवन बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल में न करें। कोलेस्ट्रॉल के मरीजों को फुल फैट वाले दूघ, पनीर से दूरी बना के रखनी चाहिए।

चिकन से करें परहेज ( cholesterol in chicken )

अगर आपको चिकन काफी पसंद हैं, तो सावधान हो जाएं। क्योंकि कोलेस्ट्रॉल में चिकन खाने से परहेज करने की सलाह दी जाती है। दरअसल, अगर आप कोलेस्ट्रॉल में अधिक चिकन का सेवन करते हैं, तो यह बैड कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ा सकता है। इससे शरीर में ब्लड फ्लो बिगड़ सकता है।

FAQ:

Q: नींबू खाने से कोलेस्ट्रॉल कम होता है क्या?

Ans: नींबू में मौजूद घुलनशील फाइबर खाने की थैली से बैड कोलेस्ट्रॉल को रक्त प्रवाह में जाने से रोक देते हैं। इसमें पाया जाने वाला विटामिन – सी रक्तवाहिका नलियों की सफाई करता है और इस तरह बैड कोलेस्ट्रॉल पाचन तंत्र के माध्यम से शरीर से बाहर निकल जाता है।

Q: कोलेस्ट्रोल कैसे बढ़ता है?

Ans: आजकल लोग अन्हेल्दी और प्रोसेस्ड फूड का अधिक सेवन करते हैं। चीनी, मैदा, कोल्ड ड्रिंक्स और तेल से बनी चीजों को खाने से कोलेस्ट्रॉल के बढ़ने का सबसे ज्यादा खतरा होता है।
Q: कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर क्या होता है?
Ans: शरीर में कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ने पर यह आपकी धमनियों में जमा हो जाता है और ब्लॉकेज का निर्माण होता है, जिससे रक्तसंचार तो बाधित होता ही है, मष्तिष्क, आंखों, दिल, किडनी और शरीर के निचले हिस्से के अंगों की कार्यप्रणाली में भी समस्या होती है। कोलेस्ट्रॉल हार्ट अटैक की संभावनाओं को कई गुना बढ़ा देता है।
Q: कोलेस्ट्रॉल कितना होना चाहिए? Cholesterol level normal
Ans: बॉडी में टोटल कोलेस्ट्रॉल लेवल ( cholesterol range ) 200 mg/dl से कम होना ठीक रहता है। एलडीएल यानी बैड कोलेस्ट्रॉल 100 mg/dl से कम, एचडीएल यानि गुड कोलेस्ट्रॉल 60 mg/dl से ज्यादा और ट्राइग्लिसराइड 150 mg/dl से कम होना बेहतर है।
Q: कोलेस्ट्रॉल कितने प्रकार के होते हैं? ( Cholesterol types )
Ans: कोलेस्ट्रॉल मुख्य रूप से तीन प्रकार का होता है। एलडीएल (LDL), एचडीएल (HDL )और वीएलडीएल (VLDL)। लो डेंसिटी लिपो प्रोटीन- इन तीनों में सबसे ज्यादा खतरनाक लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन है। इसे बैड कोलेस्ट्रॉल के रूप में जाना जाता है।
Q: कोलोस्ट्रोल टेस्ट कराने मे कितना पैसा लगता है? Cholesterol test price
Ans: इंडिया में कोलेस्ट्रॉल टेस्ट कराने में 500 से 1100/-. रुपया तक लगता है।
Q: कोलेस्ट्रॉल टेस्ट को किस नाम से जाना जाता है? Cholesterol test name
Ans: कोलेस्ट्रॉल टेस्ट को लिपिड प्रोफाइल, लिपिड पैनल के नाम से भी जाना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.