नई दिल्ली: कोरोना वायरस के नये वैरिएंट ‘ओमीक्रोन (Omicron New Coronavirus Variant) ने चिंता बढ़ा दी है। इसको ध्यान में रखते हुए सरकार ने इंटरनेशनल फ्लाइट्स को फिर से शुरू करने के निर्णय की समीक्षा करने का फैसला किया है। अगर फ्लाइट्स शुरू होती भी हैं तो विदेश से आने वाले यात्रियों, खासकर ‘रिस्क’ श्रेणी में रखे गए देशों से आने वाले लोगों की कोरोना जांच और निगरानी करने से संबंधी एसओपी पर भी नए सिरे से चर्चा हुई है।

20 महीने से बंद हैं इंटरनेशनल फ्लाइट्स

Omicron New Coronavirus Variantकेंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में इस बारे में निर्णय लिए गया। यह बैठक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) द्वारा कोरोना वायरस के नए चिंताजनक स्वरूप ‘ओमीक्रोन’ के चलते की गई उच्चस्तरीय समीक्षा के एक दिन बाद हुई। बीस महीने से ज्यादा समय के लंबे अंतराल के बाद, सरकार ने 26 नवंबर को घोषणा की थी कि 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को फिर से शुरू किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: कोरोना के नए वेरिएंट के बाद इन राज्यों में बढ़ाई गई सख्ती, जारी किए गए यह दिशा निर्देश

Omicron New Coronavirus Variant से बचने के लिए ग्लोबल सिचुएशन पर नजर

गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि गृह सचिव की अध्यक्षता में हुई बैठक में ‘ओमीक्रोन’ के मद्देनजर ग्लोबल सिचुएशन की समीक्षा की गई और बचाव के उपायों व इन्हें और मजबूत करने पर चर्चा की गई। प्रवक्ता ने कहा कि सरकार आज के वैश्विक हालातों के आधार पर कमर्शियल इंटरनेशनल फ्लाइट सर्विस को फिर से शुरू करने के फैसले की समीक्षा करेगी। सरकार ने यह भी निर्णय लिया है कि वायरस के स्वरूपों की जीनोमिक निगरानी को और मजबूत किया जाएगा व हवाईअड्डों और बंदरगाहों पर तैनात स्वास्थ्य अधिकारियों को जांच प्रोटोकॉल की सख्त निगरानी के प्रति संवेदनशील बनाया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: नीति आयोग ने डिजिटल बैंक के गठन का प्रस्ताव किया

प्रवक्ता ने कहा कि देश के भीतर महामारी की उभरती स्थिति पर कड़ी नजर रखी जाएगी। बैठक में नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) वीके पॉल, प्रधानमंत्री के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार विजय राघवन, स्वास्थ्य-नागरिक उड्डयन और अन्य मंत्रालयों के वरिष्ठ अधिकारियों सहित तमाम विशेषज्ञ शामिल हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *