Solar Eclipse 2022: साल 2022 में दो सूर्य ग्रहण लगने वाले हैं। जिसमें से पहला 30 अप्रैल 2022 को और दूसरा 25 अक्टूबर, 2022 को लगेगा। सूर्य ग्रहण 2022 इस साल का पहला सूर्य ग्रहण आंशिक होगा। जिसे प्रशांत महाससागर, दक्षिण अमेरिका के दक्षिणी और पश्चिमी हिस्से, अंटार्कटिका और अटलांटिक में देखा जा सकता है। पहला सूर्य ग्रहण आंशिक होने के कारण भारत में नहीं दिखाई देगा। ऐसे में इसका सूतक भी मान्य नहीं होगा। साल 2022 सूर्य ग्रहण कब-कब लगेगा इसके बारे में विस्तार से जानते हैं।

कब है साल का पहला सूर्य ग्रहण  (Surya Grahan 2022 )

Solar Eclipse 2022साल 2022 का पहला सूर्य ग्रहण 30 अप्रैल, शनिवार की रात 12 बजकर 19 मिनट से लेकर सुबह 4 बजकर 07 मिनट तक लगेगा। Solar Eclipse 2022 यह सूर्य ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा, इसलिए इस सूर्य ग्रहण का न तो कोई धार्मिक प्रभाव पड़ेगा और न ही इसका सूतक काल मान्य होगा। साल 2022 का पहला सूर्य ग्रहण दक्षिण अमेरिका के दक्षिणी-पश्चिमी भाग, अंटार्कटिका, अटलांटिक प्रशांत महासागर में दिखाई देगा।

इसे भी पढ़ें: DRDO Recruitment 2022 | डीआरडीओ में इन पदों पर भर्ती के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू | ऐसे करें जल्द आवेदन

दूसरा सूर्य ग्रहण (Second Surya Grahan 2022 )

साल 2022 का दूसरा सूर्य ग्रहण 25 अक्टूबर, मंगलवार के दिन लगेगा। इस सूर्य ग्रहण की शुरूआत 25 अक्टूबर की शाम 4 बजकर 29 मिनट पर होगी। जबकि इसकी समाप्ति शाम 5 बजकर 42 मिनट पर होगी। यह सूर्य ग्रहण एशिया के दक्षिणी-पश्चिमी भाग, यूरोप, अटलांटिक और अफ्रीका महाद्वीप के उत्तरपूर्वी भाग में दिखाई देगा। बता दें कि यह सूर्य ग्रहण भारत के कुछ हिस्सों में देखा जा सकेगा, इसलिए इस सूर्य ग्रहण का प्रभाव और सूतक काल मान्य होगा।

इसे भी पढ़ें: [Registration] यूपी फ्री लैपटॉप योजना 2022 | यूपी फ्री लैपटॉप योजना क्या है | UP Free Laptop Yojana 2022 Online Form

चंद्र ग्रहण 2022 की तारीख व समय 

साल का पहला पूर्ण चंद्र ग्रहण 16 मई 2022 को लगेगा। ग्रहण के समय की बात करें तो भारतीय समय के अनुसार यह सोमवार को सुबह 08:59 बजे से 10:23 बजे तक रहेगा। साल का पहला चंद्र ग्रहण दक्षिणी-पश्चिमी यूरोप, दक्षिणी-पश्चिमी एशिया, अफ्रीका, उत्तरी अमेरिका के अधिकांश हिस्सों, दक्षिण अमेरिका, प्रशांत महासागर, हिंद महासागर, अटलांटिक और अंटार्कटिका में भी दिखाई देगा। चूंकि भारत में इस चंद्र ग्रहण की दृश्यता शून्य होगी, इसलिए यहां इसका सूतक काल प्रभावी नहीं होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *