UPI Without Internet : बिना इंटरनेट के डिजिटल पेमेंट (Digital Payment Without Internet) को सक्षम बनाने वाले यूपीआई लाइट (UPI Lite) का महीनों से चल रहा इंतजार समाप्त हो गया है। कुछ महीने पहले आरबीआई ने बिना इंटरनेट वाले फीचर फोन (Feature Phone) के लिए यूपीआई का नया वर्जन UPI123Pay लॉन्च किया था।

अब सेंट्रल बैंक ने यूपीआई लाइट फीचर को लॉन्च किया है, जो स्मार्टफोन यूजर्स को भी बिना इंटरनेट के लेन-देन करने में सक्षम बनाएगा। इससे अब वैसे यूजर भी यूपीआई से लेन-देन कर पाएंगे, जिनके पास स्मार्टफोन तो है, लेकिन किसी कारण इंटरनेट नहीं चल रहा है। रिजर्व बैंक का मानना है कि ( UPI Without Internet ) यह कदम वित्तीय समावेश को बढ़ावा देने वाला साबित होगा।

वॉलेट की तरह काम करता है यूपीआई लाइट – UPI Without Internet

UPI Without Internet

यूपीआई लाइट लोगों को न सिर्फ पीक टाइम में बल्कि डाउन टाइम में भी बिना इंटरनेट के ट्रांजेक्शन करने में सक्षम बनाएगा। यह कम वैल्यू वाले ट्रांजेक्शन की तरह काम करता है यह यूपीआई की तरह ही काम करता है, लेकिन उसकी तुलना में आसान और ज्यादा तेज है। यूपीआई बैंक अकाउंट को सीधे एक्सेस करता है और अकाउंट से ही पैसे भेजता है। वहीं यूपीआई लाइट एक ऑन-डिवाइस वॉलेट की तरह है। इस वॉलेट में यूजर पहले से फंड ऐड करके रख सकते हैं और उस पैसे से लेन-देन कर सकते हैं। इससे पैसे भेजने के लिए इंटरनेट की जरूरत नहीं पड़ती है।

इसे भी पढ़ें: इस छोटे से डिवाइस से आप घर बैठे कमा सकते हैं महीने में 30 से 40 हजार रुपये

UPI Without Internet को और बेहतर बनाने के लिए हो रहा है काम

चूंकि यह एक वॉलेट की तरह काम करता है, तो आपको इंटरनेट से कनेक्ट होकर इसमें पैसे डालने होंगे। उसके बाद आप किसी भी स्थिति में यूपीआई लाइट वॉलेट से लेन-देन कर सकेंगे। हालांकि जिस व्यक्ति को पैसे भेजा जा रहा है, उसके पास इंटरनेट होना जरूरी है, वर्ना उसके पास तुरंत पैसे नहीं जाएंगे् बाद में जब भी वह व्यक्ति ऑनलाइन होगा यानी उसका इंटरनेट चलने लगेगा, उसे पैसे मिल जाएंगे। एनपीसीआई अभी यूपीआई लाइट को और बेहतर बनाने पर काम कर रहा है। एनपीसीआई चाहता है कि यूपीआई लाइट पूरी तरह से ऑफलाइन काम करने में सक्षम हो जाए, जिसके लिए अभी आरएंडी का काम चल रहा है।

यूपीआई लाइट के साथ ये सारे लिमिट

  • यूपीआई लाइट की एक और खास बात है कि इससे पेमेंट करने के लिए यूपीआई पिन डालने की जरूरत नहीं पड़ती है।
  • यह सीधे आपके वॉलेट में ऐड हुए फंड को एक्सेस करता है और उसी से पेमेंट करता है।
  • यूपीआई लाइट की एक और खास बात यह है कि इससे लेन-देन एक लिमिट में ही कर पाना संभव है।
  • इस वॉलेट में पैसे ऐड करना भी एक लिमिट है।
  • आप यूपीआई लाइट वॉलेट में ज्यादा से ज्यादा 2000 रुपये ऐड कर सकते हैं और इससे एक बार में अधिकतम 200 रुपये तक का पेमेंट किया जा सकता है।
  • हालांकि रोजाना लेन-देन को लेकर कोई लिमिट नहीं है।
  • एक बार 2000 रुपये यूज कर लेने के बाद आप उसी दिन जितनी बार जरूरत पड़े, उतनी बार 2-2 हजार रुपये ऐड कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: Saving Bank Account बंद कराने में भूल कर भी ना करें ये 5 गलतियां, हो सकता है बड़ा नुकसान

अभी सिर्फ इन बैंकों के यूजर्स को मिलेगा UPI Without Internet का लाभ

यूपीआई लाइट फीचर अभी सिर्फ भीम ऐप (UPI Lite BHIM App) यूज करने वाले लोगों के लिए ही शुरू हुआ है। अभी आठ बैंक यूपीआईलाइट फीचर को सपोर्ट कर रहे हैं। इनमें स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (State Bank Of India), यूनियन बैंक ऑफ इंडिया (Union Bank Of India), एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank), इंडियन बैंक (Indian Bank), केनरा बैंक (Canara Bank), पंजाब नेशनल बैंक (Punjab National Bank), कोटक महिंद्रा बैंक (Kotak Mahindra Bank) और उत्कर्ष स्मॉल फाइनेंस बैंक (Utkarsh Small Finance Bank) शामिल हैं। आने वाले समय में अन्य बैंक भी इस फीचर को यूज करने लगेंगे। वहीं इस बात की भी उम्मीद है कि यूपीआई लाइट फीचर की सुविधा भीम ऐप के अलावा अन्य यूपीआई ऐप को भी दी जा सकती है।

इसे भी पढ़ें: Post Office MIS Scheme : पोस्ट ऑफिस में मिल रही है ये धांसू स्कीम , 10 साल से बड़े बच्चों का खोलें अकाउंट, हर महीने मिलेंगे 2500 रुपये

यूपीआई के जरिए लेन-देन बढ़ेंगे

इससे पहले फीचर फोन के लिए यूपीआई की लॉन्चिंग के मौके पर गवर्नर दास ने कहा था कि फीचर फोन के लिए यूपीआई से ग्रामीण इलाकों के वैसे लोगों की मदद होगी, जो स्मार्टफोन अफोर्ड नहीं कर सकते और इस कारण यूपीआई के लाभ से वंचित रह जाते हैं। यूपीआई123पे के जरिए यूजर्स को यूपीआई के स्कैन एंड पे फीचर (Scan & Pay) को छोड़ बाकी सारे फीचर्स मिलते हैं। इसके लिए भी इंटरनेट कनेक्शन की जरूरत नहीं होती है। कस्टमर इस फैसिलिटी का इस्तेमाल कर बैंक अकाउंट को अपने फीचर फोन से जोड़ सकते हैं। भारत में यूपीआई को 2016 में लॉन्च किया गया था। उसके बाद से अब तक यूपीआई के जरिए ट्रांजेक्शन में कई गुना तेजी आई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.