आजकल डिजिटलाइजेशन के दौर में कमाई के लिए नई तकनीकें और नए प्रयोग अक्सर सामने आते हैं। NFT kya hai in Hindi एनएफटी यानि नॉन फंजिबल टोकन भी इसी दिशा से संबंधित है। एनएफटी के माध्यम से गेम, पेंटिंग्स, एल्बम, मीम, म्यूजिक इत्यादि को बेचा जा रहा है, पर आश्चर्य कि बात ये है की लोग इन चीजों को छू नहीं सकते बस डिजिटल स्पेस में देख सकते फिर भी उनके द्वारा इतने पैसे डिजिटल एसेट्स के लिए चुकाए क्यूं जा रहे हैं। दोस्तों, नई पीढ़ी के लिए एनएफटी का कांसेप्ट बेहद दिलचस्प है। NFT वर्चुअल रियलिटी, सोशल मीडिया और क्रिप्टो करेंसी का बेजोड़ मेल है। हम इस आर्टिकल के माध्यम आपको बताएंगे की एनएफटी NFT art आजकल सुर्खियों में क्यूं बना हुआ है और इसमे क्या-क्या खास बाते हैं। आज इस आर्टिकल के माध्यम से एनएफटी के बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं।

NFT क्या है? यदि आपको इसके बारें में जानकारी नहीं है, तो आपको यहाँ NFT का फुल फॉर्म और एनएफटी कैसे काम करता है? इसके बारें में पूरी जानकारी दी जा रही है | एनएफटी (NFT) या नॉन फंजिबल टोकन क्या होता है कैसे काम करता है कैसे कमाई करता हैं (महत्व, इतिहास,) NFT non-fungible token (history, importance)

एनएफटी (NFT) क्या है? NFT Meaning

NFT क्या हैएनएफटी का मतलब नॉन फंगिबल टोकन होता है। इसकी शुरुआत साल 2014 से हुई है। जब भी कोई चीज डिजिटली इंटरनेट पर मौजूद होती है तो ये संभव है कि उसकी नकल या कॉपी भी इंटरनेट पर मौजूद हो। पर एनएफटी की एक खास बात है। एनएफटी हमेशा ही यूनीक होते हैं। उनके साथ एक यूनीक आईडी कोड भी जुड़ा होता है। अगर कोई व्यक्ति  ये बोलता है कि उसके पास एनएफटी मौजूद है तो इसका मतलब ये है कि उसके पास एक यूनिक डिजिटल वर्क है जो दुनिया में और किसी के पास मौजूद नहीं है। ये एनएफटी डिजिटल एसेट्स की तरह काम करते हैं जिनसे वैल्यू जेनरेट किया जाता है। इसे दो लोग आपस में एक्सचेंज नही कर सकते। इससे जुड़ा हर टोकन यूनिक होता है। सामान्य भाषा में अगर एनएफटी को समझें तो जब आप ब्लॉक चेन पर किसी आर्ट वर्क के ओनरशिप के लिए रजिस्ट्रेशन ( पंजीकरण) करवा लेते हैं तो ये एनएफटी कहलाता है।

इसे भी पढ़ें: गूगल मीट एप्प क्या है इसे कैसे यूज़ और डाउनलोड करें |Google Meet App kya hai in Hindi

क्‍या है एनएफटी टोकन्‍स? ( NFT Coin )

एनएफटी यानी ये यूनिक टोकन्स  आपकी डिजिटल असेट्स होते हैं, जो वैल्यू को जनरेट करते हैं। उदाहरण के लिए आप 10 रुपये के नोट को 5 रुपये के दो नोटों में बांट या बदल सकते हैं, और इसका मूल्य समान होगा। यह कोई घर या कोई पेंटिंग भी हो सकते हैं। यानी आप अपनी डि‍जिटल संपत्‍त‍ि को या टुकड़े की तरह, एनएफटी में खरीद और बेच सकते हैं।

एनएफटी का इतिहास क्या है? (History of NFT)

एनएफटी यानि Non Fungible Token का अस्तित्व सर्वप्रथम मई 2014 में आया था। पहला एनएफटी केविन मैककॉय एवं अनिल दास द्वारा बनाया गया था। ये ईथेरियम ब्लॉकचेन तकनीक पर बेस्ड सिद्धांत पर काम करता है।

इसे भी पढ़ें: Instagram से पैसे कैसे कमाए | lnstagram se paise kaise kamaye 2022 | How To Earn Money From Instagram In Hindi

एनएफटी का महत्व क्या है? (What is the important of NFT)

दोस्तों हमें यह बताएं अपने एसेट्स या क्रिएशन पर मालिकाना हक किसे पसंद नही होता है। मालिकाना हक आपके क्रिएशंस को यूनिक बनाते हैं और कोई दूसरा व्यक्ति उसे अपना नही बता सकता है और ना ही उसकी कॉपी नहीं बना सकता है। अगर ब्लॉकचेन या डिजिटल वर्ल्ड में भी ये सुविधा मिले तो भला इससे कौन परहेज करेगा। एनएफटी का प्रयोग डिजिटल एसेट्स को यूनिक बनाता है और इसका मालिक केवल एक इंसान ही हो सकता है। एनएफटी कलाकारों के लिए एक बड़ी मदद से कम नहीं है। एनएफटी के जरिए उनके आर्टवर्क की यूनिकनेस और ओनरशिप हमेशा ही सुरक्षित रहती है। इसके अलावा गौर करने वाली बात ये है कि आर्टिस्ट अपने काम को एनएफटी के माध्यम से मोनेटाइज भी कर सकते हैं। एनएफटी को बेचनेवाले इंसान पर ये निर्भर करता है कि उसे पेमेंट किस प्रकार की करेंसी में चाहिए।

एनएफटी का उद्देश्य क्या है (NFT digital art)

दरअसल जब आप ऑनलाइन एनएफटी में किसी प्रकार की पेंटिंग, जीआईएफ, वीडियो क्लिप्स आदि खरीदते है, तो यह सभी चीजे आपको फिजिकल रूप से नही मिलती है। इनके स्थान पर आपको एक प्रकार का यूनिक टोकन दिया जाता है, जिसे आप एनएफटी टोकन भी कह सकते है। इस टोकन की सहायता से आपको उस वस्तु का मालिक अर्थात डिजिटल ओनरशिप माना जाता है।

इसे भी पढ़ें: Google se paise kaise kamaye | जाने गूगल से पैसे कमाने के 10 आसान तरीके

इस नॉन फंजिबल टोकन को स्वामित्व (Ownership) का वैध सर्टिफिकेट (Valid certificate) प्राप्त होता है। जिसमें किसी का कोई भी आईटम इस आर्ट इस कैटगरी में आता है, उन्हें ओनरशिप का सर्टिफिकेट के साथ उस आर्ट से सम्बंधित सभी अधिकार उसके ऑनर के पास चले जाते है।पिछले कुछ समय से ऑनलाइन गेमिंग, क्रिप्टो आर्ट आदि के लिए इस टोकन का उपयोग किया जा रहा है।

एनएफटी के अंतर्गत खरीद – फरोख्त के लिए ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी (Blockchain Technology) का इस्तेमाल किया जाता है। इसमें मुख्य रूप से एथरियम ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी इस्तेमाल की जा रही है, जिसमें किसी प्रकार की एंट्री फीड करनें के पश्चात इसे कोई डिलीट नही कर सकता है।

NFT से पैसे कमाने के तरीके | How To Make Money With NFT

अपनी खुद की NFT बनाकर

NFT Asset बनाकर आप पैसे कमा सकते है NFT का मतलब कोई भी Digital Audio, Video, Photo या कोई भी ऑनलाइन कार्य जिसका एक ही वर्जन है और वो आपके पास होना चाहिए।

NFT प्लेटफार्म बेचने और खरीदने के लिए

  • OpenSea
  • Binance
  • Mintable
  • Rarible
  • WazirX NFT

किसी भी तरह के Digital Creator के लिए NFT काम की होती है वो अपनी कला को एनएफटी करके इन प्लेटफार्म पर लिस्ट करके Bidding करवाकर या अपनी मनचाही रेट में उसे बेच Buy NFT सकते है और यदि खरीददार का मन है तो वो आपकी NFT Asset को खरीद सकता है।

कई NFT Platform देते है Royalty

इसका अर्थ है आपने अपनी NFT एक बार बेच दी उसके बाद अगर जिसको आपने बेची है वो उसे आगे बेचता है तो भी आपको Commission मिलता रहेगा फिलहाल ये कमिशन फिक्स नही है लेकिन ये 10% तक हो सकता है।

NFT Treding करके

किसी की बनाई हुई NFT को आप खरीदकर उसे ऊंचे दामों में बेच सकते हैं। इससे आपको इनकम होगी।

एनएफटी से पैसे कैसे कमाए ? (How to earn money from NFT)

  • एनएफटी से पैसे कमाने के लिए कई पॉपुलर प्लेटफॉर्म्स मौजूद हैं। यहां आपको अपनी क्रिएशंस को स्टोर करना होगा। इसके बाद जब आपकी क्रिएशन सेल होगी तब आपको रॉयल्टी मिलेगी।
  • बिटकॉइन कैश प्लेटफार्म, ethereum ब्लॉकचैन प्लेटफार्म फॉर एनएफटी जैसे प्लेटफार्म्स की मदद से कमाई की जा सकती है। हाल ही में लॉन्च हुए प्लेटफार्म जैसे कि Foundation, Rarible, Wazirx NFT आदि की मदद से भी पैसे कमाए जा सकते हैं।
  • ब्लॉक चेन टेक्नोलॉजी मिंटिंग में मदद करती है। यहां मिंटिंग करने के लिए आपको कुछ फीस चुकानी होती है। इस स्टेप को करने के लिए एक क्रिप्टो एक्सचेंज अकाउंट की आवश्यकता होती है।
  • क्रिप्टो एक्सचेंज अकाउंट बनाने के लिए बहुत सारे प्लेटफार्म मौजूद हैं जहां KYC एवं अन्य जानकारियों को देने के बाद अकाउंट वेरिफिकेशन होता है।
  • वेरिफिकेशन के बाद एक वॉलेट की आवश्यकता होगी। ये वॉलेट ट्रस्ट वॉलेट या मेटा मास्क वॉलेट होता है। इस वॉलेट में कुछ अमाउंट होता है।
  • जब आप ethereum प्लेटफार्म से जुड़ जाएंगे तो अपनी कृति पर मालिकाना अधिकार पाने के लिए डिजिटल साइन करना होता है।
  • एनएफटी से पैसे कमाने के लिए एक बात का ध्यान रखना जरूरी है कि आप जब अपने क्रिएशंस को मोनेटाइज करने का सोचे तो ध्यान रखें कि उस वक्त कौन सी चीज या आर्ट ट्रेंड कर रहा है।
  • ट्रेंड्स को ध्यान में रख कर क्रिएशंस बनाने पर मोनेटाइजेशन के चांसेज बढ़ जाते हैं और आपको इससे फायदा मिलता है।

इसे भी पढ़ें: Upstox kya hai in hindi | Upstox से पैसे कैसे कमाएं | Upstox में Demat Account कैसे खोलें

एनएफटी से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें

एनएफटी की शुरुआत भले ही 2014 में हुई हो पर आजकल ये चर्चा का विषय बना हुआ है। चलिए आपको एनएफटी से जुड़े कुछ ऐसे उदाहरण बताते हैं जिन्होंने एनएफटी को इतने चर्चा में ला दिया है

  • डिजिटल आर्टिस्ट माइकल विंकलमैन ने अपनी एक एनएफटी को 69.3 मिलियन डॉलर्स में बेच दिया था।
  • ट्विटर के पूर्व सीईओ जैक डोरसे का पहला ट्वीट एनएफटी के रूप में 2.9 मिलियन डॉलर्स में बेचा था।
  • वीडियो गेम सुपर मारियो से संबंधित एक कार्टरिज 11.58 करोड़ में बिक गया था।
  • साल 2015 में आया एक मीम 38 लाख रुपए में बिका था।

भारत में एनएफटी का क्या महत्व है?

भारत में एनएफटी के प्रचलित होने की वात करें तो धीरे धीरे ये भारतीयों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर रहा है। उदाहरणस्वरूप, भारतीय मूल के नागरिक विग्नेश सुंदरेशन ब्लॉक चेन टेक्नोलॉजी से संबंधित बिजनेस करते हैं और डिजिटल आर्टिस्ट माइकल विंकलमैन की एक पेंटिंग को इन्होंने 69.3 मिलियन डॉलर में खरीदा था।माना जा रहा है कि फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन भी एनएफटी को लॉन्च करने की तैयारी में हैं। बताया गया है कि उनकी एनएफटी में अमिताभ के ऑटोग्राफ वाले पोस्टर्स शामिल रहेंगे। इनके अलावा अभिनेता सलमान खान, क्रिकेटर दिनेश कार्तिक ने भी एनएफटी बनाने की पहल की है। ऐसी खबर भी है कि भारत में एनएफटी को लोगों तक पहुंचाने वाली पहली कंपनी क्रिप्टो एक्सचेंज बनेगी।

एनएफटी और बिटकॉइन में क्या अंतर है?

दो बिटकॉइन एक्सचेंज किए जा सकते हैं क्यूंकि इनकी कीमत एक जैसी होगी,जबकि एनएफटी के केस में ऐसा नहीं हो सकता। एनएफटी से जुड़ा टोकन यूनिक होता है। दो एनएफटी को एक दूसरे से एक्सचेंज नहीं कर सकते हैं। ऐसा कहा जा सकता है कि बिटकॉइन अगर एक डिजिटल एसेट है तो एनएफटी एक यूनिक डिजिटल एसेट है। एनएफटी में क्रिएशन या एसेट के ऊपर स्वामित्व स्थापित किया जा सकता है।

क्‍या है NFT का मार्केट’? NFT Market

  • एक शोध कंपनी DappRadar के अनुसार Ethereum ब्लॉकचेन में जारी NFT price का कुल मूल्य 14.3 बिलियन डॉलर है, जो पिछले साल लगभग 340 मिलियन डॉलर था।
  • मार्केट रिसर्च फर्म हैरिस द्वारा मार्च में की गई एक स्टडी के अनुसार, 11% अमेरिकी का कहना है कि उन्होंने एनएफटी खरीदा है। जो कमोडिटी मार्केट में खरीदारी करने वाले लोगों से कुछ प्रतिशत (यानी 1 फीसदी) ही कम है।
  • एक अन्य एनालिस्ट जेफ़रीज़ के मुताबिक एनएफटी का मूल्य अगले साल में दोगुना हो जाएगा और साल 2025 तक 80 बिलियन डॉलर तक पहुंच जाएगा। इसके अलावा टोकन का इस्‍तेमाल भी बहुत तेजी से बढ़ जाएगा।

क्या आप क्रिप्टोकरसी के द्वारा एनएफटी खरीद सकते हैं? How do NFTs work

बहुत सारे मार्केटप्लेस हैं, जहां इथीरियम में पेमेंट होता है। हालांकि ये NFT बेच रहे शख्स पर निर्भर करता है कि वो किसी करेंसी में पेमेंट चाहता है। NFT Crypto आखिर में हम आपको यह भी बता दें कि NFTs को जेनरेट करने में बहुत ज्यादा बिजली खर्च होती है क्योंकि ये भी क्रिप्टोकरेंसी की तरह ही ब्लॉकचेन पर काम करते हैं और इनके जेनरेशन में ग्रीनहाउस गैसें निकलती हैं, जो क्लाइमेंट के लिए अच्छी नहीं होतीं।

एक और कमी जो है, वो ये कि जरूरी नहीं है कि आपको बहुत आराम से कोई अच्छी डील मिल जाए। हो सकता है कि कहीं किसी चीज को खरीदने के चक्कर में आप ज्यादा पैसे लगा दें। अगर एक सेलर यानी विक्रेता के नजरिए से सोचें तो जब NFT का हाइप फेड होगा, तो प्रॉफिट कमाने में दिक्कत आएगी, क्योंकि उस वक्त हर कोई प्रॉफिट ही कमाने की कोशिश कर रहा होगा।

FAQs

Q: एनएफटी का पूरा नाम क्या है?

Ans: एनएफसी का पूरा नाम नॉन फंजिबल टोकन है।

Q: एनएफटी की शुरुआत कब हुई?

Ans: एनएफटी की शुरुआत 2014 में हुई है।

Q: एनएफटी का फुल फॉर्म (NFT Full Form) क्या है?

Ans: NFT का फुल फॉर्म “Non Fungible Token (नॉन-फंजिबल टोकन)” होता है।

Q: एनएफटी का उद्देश्य क्या है?

Ans: एनएफटी डिजिटल एसेट्स की तरह काम करते हैं जिनसे वैल्यू जेनरेट किया जाता है।

Q: पहली एनएफटी किसने वेची थी?

Ans: केविन मैककॉय एवं अनिल दास द्वारा बेची गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *